• शहर चुनें
iconग्रीन इनिशिएटिव
भारत में कमर्शियल इलेक्ट्रिक व्हीकल ला रहे हैं नए बदलाव
  • ब्रांड
  • बॉडी
  • बजट
  • टन्नाज

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल

भारत में इस वक्त 593 इलेक्ट्रिक ट्रक्स बिक्री के लिए उपलब्ध है.इनमें से एसएन सोलर एनर्जी न्यू पैसेंजर इलेक्ट्रिक रिक्शा सबसे सस्ता इलेक्ट्रिक ट्रक जबकि एका के1.5 सबसे महंगा इलेक्ट्रिक ट्रक है.महिंद्रा टरेओ, टाटा ऐस ईवी, पियाजियो आपे इ सिटी, महिंद्रा ट्रियो यारी और महिंद्रा ट्रेओ जोर सबसे पॉपुलर इलेक्ट्रिक व्हीकल्स हैं। पर भारत में बेस्ट इलेक्ट्रिक ट्रक्स और उनकी प्राइस देखें और एक सही कमर्शियल व्हीकल चुनने के लिए ट्रकों को कंपेयर करें।इन इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स में ऑटो रिक्शा, मिनी-ट्रक्स्, 3 व्हीलर और ई रिक्शाशामिल हैं।


पूरी दुनिया में एक तरफ जहां ऑटोमोटिव सेक्टर के इलेक्ट्रिफिकेशन का काम काफी तेजी से चल रहा है। वहीं कमर्शियल व्हीकल सेगमेंट भी इससे कोई अछूता नहीं है। ग्लोबल मार्केट्स की तरह इंडियन कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री भी तेजी से इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की तरफ बढ़ रही है। हालांकि, दूसरे देशों से अलग भारत की ट्रकिंग इंडस्ट्री में लास्ट माइल कार्गो डिलीवरी के लिए काफी उपयोगी साबित होने वाले कार्गो और लोगों को लाने ले जाने के लिए ऑटो रिक्शा नाम से फेमस पीपल कैरियर 3 व्हीलर का भी इलेक्ट्रिफिकेशन किया जा रहा है। भारत में ऑटो-रिक्शा सेगमेंट का इलेक्ट्रिफिकेशन किए जाने की एक बड़ी वजह ये है कि ये मिडिल क्लास कस्टमर्स के लिए काफी उपयोगी साबित होते हैं जो इन्हें बिना किसी उत्कृष्ट इंफ्रास्ट्रक्चर के एक सीमित स्थान में आसानी से राइड कर सकते हैं। इसके अलावा इलेक्ट्रिक व्हीकल्स ऑपरेट करने में सस्ते पड़ते हैं और इससे इनकम भी बढ़ती है।


एंट्री लेवल इलेक्ट्रिक 3 व्हीलर को टार्गेट करते हुए भारत में कई मैन्युफैक्चरर्स और स्टार्ट अप्स ने देश में ही डिजाइन और डेवलप किए गए इलेक्ट्रिक 3 व्हीलर लॉन्च कर दिए हैं। इन मैन्युफैक्चरर्स में पियाजिओ,महिंद्रा और अतुल ऑटो मुख्य तौर पर शामिल हैं साथ ही, युलर मोटर्स,अल्ट्रीग्रीन और ओमेगा सेकी जैसी उभरती कंपनियां भी मार्केट में लगातार अपने पैर पसार रही है। पैसेंजर और कार्गो कैरियर सेगमेंट में कई इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर्स अलग-अलग प्राइस पॉइंट, रेंज और फीचर्स के हिसाब से उपलब्ध हैं।


2024 के टॉप 10 इलेक्ट्रिक ट्रक्स और उनकी प्राइस

मॉडलकीमतों
महिंद्रा टरेओ₹3.06 - ₹3.37 लाख
टाटा ऐस ईवीसे ₹8.72 लाख
पियाजियो आपे इ सिटी₹1.95 - ₹2.84 लाख
महिंद्रा ट्रियो यारी₹1.79 - ₹2.04 लाख
महिंद्रा ट्रेओ जोर₹3.13 - ₹3.48 लाख
मोंट्रा इलेक्ट्रिक सुपर ऑटो₹3.02 - ₹3.50 लाख
महिंद्रा ज़ोर ग्रैंड₹3.50 - ₹3.80 लाख
वाईसी इलेक्ट्रिक यात्री सुपरसे ₹1.69 लाख
महिंद्रा ट्रियो प्लस₹3.44 - ₹3.69 लाख
मिनी मेट्रो ई रिक्शासे ₹1.10 लाख
और पढ़ें

भारत में कमर्शियल इलेक्ट्रिक व्हीकल

  • लोकप्रिय
  • लेटेस्ट
  • इलेक्ट्रिक
    महिंद्रा टरेओ
    महिंद्रा टरेओ
    ₹3.06 - ₹3.37 लाख*
    • पावर 8 kW
    • जीवीडब्ल्यू 350
    • इंजन 1496
    • पेलोड 578
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    टाटा ऐस ईवी
    टाटा ऐस ईवी
    से ₹8.72 लाख*
    • पावर 36 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 1840
    • इंजन 21.3 kWh
    • पेलोड 600
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    पियाजियो आपे इ सिटी
    पियाजियो आपे इ सिटी
    ₹1.95 - ₹2.84 लाख*
    • पावर 7.3 Hp
    • जीवीडब्ल्यू 689
    • पेलोड 390
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    महिंद्रा ट्रेओ जोर
    महिंद्रा ट्रेओ जोर
    ₹3.13 - ₹3.48 लाख*
    • पावर 8 kW
    • जीवीडब्ल्यू 995
    • पेलोड 550
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    महिंद्रा ट्रियो यारी
    महिंद्रा ट्रियो यारी
    ₹1.79 - ₹2.04 लाख*
    • पावर 2 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 740
    • पेलोड 500
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    मोंट्रा इलेक्ट्रिक सुपर ऑटो
    मोंट्रा इलेक्ट्रिक सुपर ऑटो
    ₹3.02 - ₹3.50 लाख*
    • पावर 13hp
    • जीवीडब्ल्यू 770
    • पेलोड 770
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    महिंद्रा ज़ोर ग्रैंड
    महिंद्रा ज़ोर ग्रैंड
    ₹3.50 - ₹3.80 लाख*
    • पावर 12 kW
    • जीवीडब्ल्यू 998
    • पेलोड 400
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    वाईसी इलेक्ट्रिक यात्री सुपर
    वाईसी इलेक्ट्रिक यात्री सुपर
    से ₹1.69 लाख*
    • पावर 2 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 693
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    महिंद्रा ट्रियो प्लस
    महिंद्रा ट्रियो प्लस
    ₹3.44 - ₹3.69 लाख*
    • पावर 8 kW
    • जीवीडब्ल्यू 701
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    टाटा मैजिक ईवी
    टाटा मैजिक ईवी
    कीमत जल्द ही
    • पावर 34 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 2180
    • पेलोड 825
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    मिनी मेट्रो ई रिक्शा
    मिनी मेट्रो ई रिक्शा
    से ₹1.10 लाख*
    • पावर 1 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 500
    • पेलोड 400
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    पियाजियो आपे ई एक्स्ट्रा
    पियाजियो आपे ई एक्स्ट्रा
    से ₹3.12 लाख*
    • पावर 12 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 975
    • पेलोड 506
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    ऑन-रोड प्राइस जानें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स वायु
    लॉर्ड्स वायु
    कीमत जल्द ही
    • पावर 6 Hp
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स वेलोसिटी
    लॉर्ड्स वेलोसिटी
    कीमत जल्द ही
    • पावर 8 एच पी
    • पेलोड 500-900
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स स्वच्छ यान
    लॉर्ड्स स्वच्छ यान
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1 एचपी
    • पेलोड 350
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स ग्रेस
    लॉर्ड्स ग्रेस
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1 एचपी
    • पेलोड 350
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स देवम किंग
    लॉर्ड्स देवम किंग
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1 एचपी
    • पेलोड 350
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स देवम् सम्राट
    लॉर्ड्स देवम् सम्राट
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1 एचपी
    • पेलोड 350
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स गति
    लॉर्ड्स गति
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1 एचपी
    • पेलोड 350
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लॉर्ड्स सवारी
    लॉर्ड्स सवारी
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1 एचपी
    • पेलोड 350
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    ईबज़ पैसेंजर ई-रिक्शा
    ईबज़ पैसेंजर ई-रिक्शा
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1.25 kW
    • पेलोड 400
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लेबू अटूट एल
    लेबू अटूट एल
    कीमत जल्द ही
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    ईबज़ कार्गो
    ईबज़ कार्गो
    कीमत जल्द ही
    • पावर 1.25 kW
    • पेलोड 400
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
  • इलेक्ट्रिक
    लेबू अटूट पी
    लेबू अटूट पी
    कीमत जल्द ही
    • ईंधन प्रकार इलेक्ट्रिक
    डीलर से बात करें
icon

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स का भविष्य

पेट्रोल/डीजल व्हीकल के मुकाबले ये काफी अच्छे विकल्प हैं जो बिल्कुल भी पोल्यूशन नहीं फैलाते हैं और तेजी से एडवांस होती इलेक्ट्रिक व्हीकल टेक्नोलॉजी के कारण इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स का भविष्य काफी अच्छा है। इलेक्ट्रिक ट्रक्स के सुनहरे भविष्य से जुड़े कुछ और तर्क इस प्रकार से है:

icon

कम रनिंग कॉस्ट

कंबशन इंजन व्हीकल्स की ज्यादा फ्यूल कॉस्ट और पेचीदा पावरट्रेन कंपोनेंट्स के कारण इनकी ऑपरेशनल कॉस्ट और मेंटेनेंस कॉस्ट काफी ज्यादा होती है। दूसरी तरफ इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स मेंटेन करने में आसान है और इलेक्ट्रिसिटी की कीमत भी काफी कम है।

icon

दमदार परफॉर्मेंस

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स काफी बेहतर टॉर्क आउटपुट देते हैं और ये पेट्रोल/डीजल से चलने वाले व्हीकल्स से ज्यादा रिस्पॉन्सिव होते हैं और इनसे कंफर्टेबल ड्राइविंग एक्सपीरियंस मिलता है।

icon

इको फ्रेंडली

कंबशन इंजन के मुकाबले इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स बिल्कुल भी पॉल्यूशन नहीं फैलाते हैं। नतीजतन आज ज्यादा से ज्यादा लोग इन्हें अपना रहे हैं और पर्यावरण को बिना नुकसान पहुंचाए लंबे समय तक इन्हें काम में ले रहे हैं।

icon

कोई शोर शराबा नहीं

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स बिल्कुल भी शोर नहीं करते हैं, जिससे आवासीय क्षेत्रों में ध्वनि प्रदूषण कम फैलता है और कुछ सवेंदनशील इलाकों में इनका उपयोग सबसे बेहतर रहता है। इसलिए बिजनेस करने वाले लोग ऐसे कमर्शियल व्हीकल्स को उपयोग में ले रहे हैं।

icon

सब्सिडी

भारत सरकार अब कमर्शियल व्हीकल फ्लीट के इलेक्ट्रिफिकेशन की ओर बढ़ रही है और इलेक्ट्रिक व्हीकल्स को अपनाने को बढ़ावा देने के उद्देश्य से पहले से ही फेम II सब्सिडी की पेशकश कर रही है। इन कारणों से भारत में इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स को काफी बढ़ावा मिल रहा है और सबसे ज्यादा इलेक्ट्रिक ट्रकों और 3 व्हीलर को अपनाया जा रहा है, मगर हैवी ट्रकों का इलेक्ट्रिफिकेशन अभी काफी धीरे धीरे हो रहा है। हालांकि, हैवी ट्रक सेक्टर में तेजी से लॉन्चिंग की बातें भी लगातार सामने आ रही है।

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल न्यूज और अपडेट्स

ev

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स की बैटरी को कैसे मेंटेन करें

  • फुल चार्ज ना करें:

    इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल की बैटरी को बार-बार 100 प्रतिशत चार्ज करने से बैटरी खराब होने का खतरा हमेशा ही बना रहता है। ऐसे में लंबी बैटरी लाइफ के लिए व्हीकल के बैटरी पैक को लगभग 80 प्रतिशत तक चार्ज करने की सलाह दी जाती है।

  • ओवरलोडिंग से बचें:

    मैन्यूफैक्चरर्स की ओर से पेलोड लिमिट्स को लेकर दिए जाने वाले सुझाव को मानना चाहिए, क्योंकि ओवरलोडिंग से इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल के बैटरी पैक पर दबाव पड़ता है जिससे इनकी एफिशिएंसी और लाइफ कम हो जाती है।

  • ज्यादा तापमान के संपर्क में आने से बचें:

    ज्यादा तापमान इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल की बैटरी की परफॉर्मेंस को प्रभावित कर सकता है। इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल को बहुत अधिक या बहुत कम तापमान के संपर्क में लाने से बैटरी को नुकसान हो सकता है।

  • सेफ स्टोरेज:

    व्हीकल को लंबे समय तक, विशेष रूप से एक महीने से अधिक समय तक काम में ना लेने की स्थिति में बैटरी चार्ज लेवल 50 प्रतिशत से 80 प्रतिशत के बीच मेंटेन रखना सुनिश्चित करें और बैटरी पैक को लंबे समय तक पूरी तरह से खत्म होने से बचाएं।

  • रेगुलर मेंटेनेंस:

    ओरिजनल इक्विपमेंट सेंटर पर रेगुलर मेंटेनेंस चैकअप और सर्विस से इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल की बैटरी की लाइफ बढ़ाई जा सकती है। एफिशिएंसी और लाइफ बढ़ाने के लिए व्हीकल की लगातार सर्विसिंग भी बेहद जरूरी है।

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स की खूबियां और खामियां

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स को अक्सर भारत में बिजनेस ग्रोथ को बढ़ावा देने के लिए एक आदर्श विकल्प माना जाता है, लेकिन क्या ये वास्तव में आपकी आवश्यकताओं के लिए सही विकल्प हैं? डालते हैं एक नजर:

खूबियां

  • icon

    दमदार परफॉर्मेंस:

    इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स अपने हाई-परफॉर्मेंस बैटरी पैक और इलेक्ट्रिक मोटर्स के कारण कई तर​ह के काम में लिए जा सकते हैं।

  • icon

    जीरो एमिशन:

    कंबशन इंजन बेस्ड कमर्शियल व्हीकल्स के मुकाबले इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स किसी तरह का प्रदूषण नहीं फैलाते हैं और इको फ्रेंडली होते हैं।

  • icon

    कम मेंटेनेंस कॉस्ट:

    पेट्रोल-डीजल से चलने वाले व्हीकल्स की तुलना में इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स की ऑपरेशनल कॉस्ट कम होती है। चूंकि इलेक्ट्रिसिटी कॉस्ट डीजल व पेट्रोल से कम होती है, और इलेक्ट्रिक व्हीकल्स के कंपोनेंट्स भी काफी सिंपल होते हैं, ऐसे में इनके रखरखाव पर कम खर्च आता है।

  • icon

    कोई शोर नहीं करते:

    इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स कोई शोर नहीं करते हैं और शहरों और कुछ संवेदनशील इलाकों के लिए ये सबसे बेहतर माने जाते हैं।

  • icon

    ईवी इंसेटिव:

    भारत सरकार देशभर में इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स को बढ़ावा देने के लिए टैक्स क्रेडिट, सब्सिडी और इंसेटिव्स की पेशकश कर रही है।

icon

कमियां

  • icon

    बैटरी चार्जिंग टाइम

    डीजल और पेट्रोल कमर्शियल व्हीकल्स में तेल भरने में लगने वाले समय की तुलना में इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स को चार्ज करने में अधिक समय लगता है। इससे ऑपरेटर्स और बिजनेस ओनर्स की ऑपरेशनल एफिशिएंसी और प्रॉफिटेबिलिटी प्रभावित होती है।

  • icon

    काफी कम ऑप्शन

    पारंपरिक कमर्शियल व्हीकल्स की एक बड़ी रेंज से ठीक उलट इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स की रेंज में सीमित मॉडल मौजूद हैं, जिनमें से हैवी हॉलेज इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स के तो काफी कम ही ऑप्शन मौजूद हैं।

  • icon

    चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर

    लंबे सफर के दौरान चार्जिंग स्टेशनों की कमी और बेहतर चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर ना होने के कारण इलेक्ट्रिक व्हीकल्स की रेंज एक बड़ी चिंता के रूप में देखी जाती है।

  • icon

    बैटरी की कीमत

    भारत में अधिकांश इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स के साथ आने वाली लिथियम-आयन बैटरी पैक को बदलने में आमतौर पर बहुत अधिक लागत आती है, जिससे बिजनेस की प्रॉफिटेबिलिटी कम हो सकती है।

  • icon

    ओवरटाइम बैटरी डीग्रेडेशन

    एक समय के बाद इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल के बैटरी पैक की क्षमता कम हो जाती है और यह इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स की ड्राइविंग रेंज और उसकी परफॉर्मेंस को प्रभावित कर सकता है।

icon

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल्स पर पूछें जाने वाले प्रश्न

मुझे इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल क्यों लेना चाहिए?

एक पारंपरिक पेट्रोल/डीजल ट्रक के मुकाबले इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल को मेंटेन करना काफी सस्ता होता है। इलेक्ट्रिक व्हीकल में बिजली का इस्तेमाल होता है जो डीजल या पेट्रोल से ज्यादा सस्ती पड़ती है, जिससे व्हीकल की रनिंग कॉस्ट कम आती है। इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल का मेंटेनेंस भी कम होता है, क्योंकि इसमें आपको बैटरी और इलेक्ट्रिक मोटर पर ही फोकस रखना पड़ता है। दूसरी तरफ इंटरनल कंब्सशन इंजन वाले व्हीकल में काफी पेचीदा पुर्जे होते हैं, इसलिए इनकी मेंटेनेंस कॉस्ट ज्यादा आती है। भारत में उपलब्ध मॉडर्न कमर्शियल इलेक्ट्रिक व्हीकल पेट्रोल/डीजल इंजन वाले व्हीकल के बराबर परफॉर्मेंस दे रहे हैं और इनमें समान फीचर भी मिलते हैं। कम मेंटेनेंस कॉस्ट और जीरो पॉल्यूशन के साथ इलेक्ट्रिक व्हीकल काफी प्रॉफिटेबल और इको फ्रेंडली चॉइस साबित हो रहे हैं।

क्या मुझे चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर को लेकर ​चिंतित रहना चाहिए?

भारत में कमर्शियल-ग्रेड इलेक्ट्रिक ट्रक और 3 व्हीलर की मांग लगातार बढ़ रही है और इसी के साथ भारत में इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर भी तेजी से विकसित हो रहा है। इलेक्ट्रिक व्हीकल को अपनाने की तेजी से बढ़ती प्रवृति को देखते हुए भारत में अब इलेक्ट्रिक मोबिलिटी सॉल्यूशन स्टार्टअप्स और असोसिएट कंपनियां ज्यादा से ज्यादा चार्जिंग स्टेशन तैयार कर रही हैं।

क्या इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल सुरक्षित है?

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल मैन्यूफैक्चरर्स बैटरी पैक को सुरक्षित रखने के लिए कई तरीके अपना रहे हैं। इन तरीकों में बैटरी मैनेजमेंट सिस्टम भी शामिल है जो ओवरचार्जिंग और शॉर्ट सर्किट से बचाता है। इसके अलावा मैन्यूफैक्चरर्स कई महीनों और सालों तक इनकी टेस्टिंग भी करते हैं, जिससे ये पता चल जाता है कि ये चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में काम कर सकती हैं कि नहीं।

एक इलेक्ट्रिक ट्रक को चार्ज करने में कितना समय लगता है?

देश में काफी जगहों पर डीसी फास्ट चार्जर उपलब्ध हैं। कम समय में ये वाहनों को अच्छा खासा चार्ज कर देते हैं। बैटरी को 0 से 100 प्रतिशत त​क चार्ज होने में करीब 1 से 3 घंटे का समय लग सकता है।
इसके अलावा, भारत में अल्टीग्रीन जैसे व्हीकल मैन्यूफैक्चरर्स यह भी आश्वासन दे रहे हैं कि एक्सपोनेंट का ई-पंप चार्जिंग नेटवर्क उनके कमर्शियल-ग्रेड इलेक्ट्रिक थ्री-व्हीलर को केवल 15 मिनट में 0 से 100 प्रतिशत तक चार्ज कर सकता है। एडवांस होती टेक्नोलॉजी के साथ चार्जिंग इंफ्रास्ट्रक्चर भी अब बेहतर होने लगा है।

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल को कैसे चार्ज करें?

इलेक्ट्रिक कमर्शियल व्हीकल के चार्जिंग प्रोसेस में चार्जिंग स्टेशन के इंटरफ़ेस को एक्टिवेट करना शामिल है। इसमें रेडियो-फ्रीक्वेंसी आइडेंटिफिकेशन (आरएफआईडी) कार्ड, मोबाइल ऐप या चार्जिंग स्टेशन के डिस्प्ले का इस्तेमाल किया जाता है।
यहां ऑपरेटर को चार्जिंग स्टेशन से व्हीकल के चार्जिंग पोर्ट में चार्जिंग केबल लगाना होता है, यह वैसा ही है जैसा कि हम अपने मोबाइल को चार्ज करते हैं। एक बार व्हीकल के पूरी तरह चार्ज हो जाने पर, चार्जिंग स्टेशन की डिस्प्ले पर फुल चार्जिंग दिखने लगती है। इसके बाद, केबल को व्हीकल के चार्जिंग पोर्ट से सुरक्षित रूप से डिस्कनेक्ट किया जाता है।

कमर्शियल इलेक्ट्रिक व्हीकल कंपेयर करें

×
आपका शहर कौन सा है?