• शहर चुनें

मुंबई ने ट्रक्स को पीक अवर्स में किया बेन, क्या अन्य शहर भी इसे अपनाएँगे?

Published On Dec 22, 2016By Mukul Yudhveer Singh


मुंबई में बढ़ती यातायात की समस्या से निपटने के लिए मुंबई ट्रेफिक पुलिस ने शहर में हेवी व्हीक्ल्स की आवाजाही पर पीक अवर्स (व्यस्ततम समय) में रोक लगा दी है। सुबह 7 बजे से लेकर 11 बजे तक और शाम 5 बजे से लेकर रात 9 बजे की समय सीमा में, अब से, ज़्यादातर हेवी व्हीक्ल्स की आवाजाही बंद रहेगी।

श्री संजय मोहिते, जो की एडीशनल कमिशनर ऑफ पुलिस हैं ट्रेफिक के बृहन मुंबई के लिए ने जानकारी देते हुए बताया की, "मुंबई शहर में ट्रेफिक के आसान आवाजाही और बेहतर ट्रेफिक मेनेजमेंट को ध्यान में रखते हुए सुबह 7 बजे से लेकर 11 बजे तक और शाम 5 बजे से लेकर रात 9 बजे की समय सीमा में सभी हेवी व्हीक्ल्स, सिवाय उन हेवेी व्हीक्ल्स के जो की दूध, सब्जी व फल, एंबुलेंस, पुलिस डिपार्टमेंट, फ़ायर डिपार्टमेंट, सरकारी और अर्द्ध सरकारी व्हीक्ल्स व सभी पॅसेंजर्स ट्रांसपोर्ट करती बसेस, का शहर के सड़कों पर दौड़ना माना होगा।"

हेवी व्हीक्ल्स जो की रोज़मर्रा के सामानों की डिलीवरी कर रहे हैं जिन में ऐसे व्हीक्ल्स जो की दूध, सब्जी व फल, एंबुलेंस, पुलिस डिपार्टमेंट, फ़ायर डिपार्टमेंट, सरकारी और अर्द्ध सरकारी व्हीक्ल्स व सभी पॅसेंजर्स ट्रांसपोर्ट करती बसेस, को इस रोक / बेन से छूट दी गयी है।

मुंबई ट्रेफिक पुलिस ने अपने एक आधिकारिक वक्तव्य में कहा है की, "बृहन मुंबई शहर की सड़कों पर बढ़ती व्हीक्ल्स की संख्या, सड़कों पर चल रहे मरम्मत व अन्य काम, जारी मेट्रो रेल / मोनो रेल के प्रॉजेक्ट्स और बिजली व टेलिफोन लाइन के काम साथ ही सामान ट्रांसपोर्ट करते हेवी व्हीक्ल्स सड़कों पर काफ़ी जगह घेरते हैं, जिस के कारण ट्रेफिक को और आम जनता को पीक अवर्स में असुविधा का सामना करना पड़ता है।"

देश के कई बड़े शहरों के ट्रेफिक संबंधी समस्याएँ अब किसी से छुपे नहीं हैं। बहुत से मेट्रोपोलिटन शहरों व उन के आसपास के क्षेत्रों को सड़कों पर व्हीक्ल्स की बढ़ती समस्या का सामना करना पड़ता है। पीक अवर्स में हेवी व्हीक्ल्स को निर्धारित समय के लिए बेन करने से मुँहचिढ़ाती ट्रेफिक जाम की समस्या के असल कारण से लंबे समय तक मुँह नहीं फेरा जा सकता है।

भारत में कमर्शियल व्हीक्ल्स से ज़्यादा प्राइवेट व्हीक्ल्स मौजूद हैं, और केवल ट्रक्स जैसे व्हीक्ल्स पर रोक लगाने से देश में ऑपरेट कर रही ट्रांसपोर्ट कम्यूनिटी के ज़हन में नकारात्मक संकेत भेजने जैसे होगा। साथ ही, क्या ट्रक्स और अन्य हेवी व्हीक्ल्स पर बेन लगाने से ट्रेफिक जाम से छुटकारा मिल जाएगा? जब की ट्रेफिक जाम का असल कारण छोटे और मीडियम ट्रांसपोर्टेशन हैं।

लेटेस्ट मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत

पॉपुलर मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत
×
आपका शहर कौन सा है?