• शहर चुनें

बीएस6 इंजन ऑयल लुब्रिकेशन के महत्व पर डालिए एक नजर

Modified On Mar 07, 2023 06:30 PMBy ट्रक्सदेखो संपादकीय टीम

देश में रोड नेटवर्क बढ़ने से ट्रक इंडस्ट्री को भी काफी फायदा पहुंचा है। CEEW - इंडिया ट्रांसपोर्ट एनर्जी आउटलुक, जून 2022 की रिपोर्ट के अनुसार पिछले डेढ़ दशक में ट्रांसपोर्ट इंडस्ट्री काफी तेजी से बढ़ी है और देश के कुल फ्यूल खपत का करीब 20 प्रतिशत हिस्सा माल ढुलाई के काम में खर्च हुआ है। तेल की ज्यादा खपत इसलिए हुई क्योंकि ये ट्रक काफी पुराने थे और ये अच्छी परफॉर्मेंस नहीं दे रहे थे।

नीतियों में अहम बदलाव

भारत अपने विकास में आ रही रूकावटों को दूर करने के लिए लगातार अपनी नीतियों में बदलाव कर रहा है। पिछले 3-दशकों में सरकार ने टेक्नोलॉजी में बदलाव करते हुए ट्रकों की पेलोड कैपेसिटी बढ़ाई है, जिससे ट्रकों के जरिये ज्यादा से ज्यादा माल ढुलाई होने लगी है।

लॉजिस्टिक बिजनेस में ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, ये हम जानेंगे आगेः  Click here to know more

इसके अलावा अप्रैल 2020 से एमिशन नॉर्म्स में बड़े सुधार करते हुए बीएस5 के बजाए बीएस6 नॉर्म्स लागू किए गए। ये फैसला लगातार बढ़ रहे प्रदूषण और देश के प्रमुख 20 शहरों में जहरीली होती ​हवा को देखते हुए लिया जाना जरूरी था। 

नए नियमों के हिसाब से तैयार हुए इंजन कम प्रदूषण करते हैं। इसके लिए इंजन में कई तरह के बदलाव हुए हैं और इनमें अब ज्यादा एडवांस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया है। हालांकि इससे उन फ्लीट ऑपरेटर को थोड़ी असुविधा जरूर हुई है जिनके पास पहले से बीएस4 ट्रक हैं और हाल ही में उन्होंने अपने बेड़े में बीएस6 ट्रक शामिल किए हैं। बीएस4 और बीएस6 दोनों तरह के ट्रक होने से उनके सामने इनके मेंटेनेंस की सबसे बड़ी चिंता खड़ी हो गई।

मिक्स ट्रक फ्लीट चैलेंज

नई टेक्नोलॉजी और नए इंजन आने से अब खासतौर पर कमर्शियल वाहनों की मेंटेनेंस पर ध्यान देना ज्यादा जरूरी हो गया है। आज देश में व्यापारियों के पास बीएस4 और बीएस6 दोनों तरह के ट्रक हैं, जिनकी मेंटेनेंस की चिंता एक बड़ा सवाल है।

आज तेजी से बदलते ट्रांसपोर्ट बिजनेस में खर्चों को कम करना सबसे ज्यादा जरूरी है और इस मामले में इंजन ऑयल की सबसे बड़ी भूमिका रहती है। अच्छे इंजन ऑयल का इस्तेमाल कर आप अपने ट्रक को लंबे समय तक सही सलामत रख सकते हैं, जिससे आपके ट्रक के रख-रखाव पर होने वाले काफी सारे खर्चे बच जाएंगे और इससे आपका मुनाफा बढ़ जाएगा। अब मार्केट में कई ऐसे इंजन ऑयल आ गए हैं जिन्हें बीएस6 ट्रकों के हिसाब से डिजाइन, डेवलप और टेस्ट किया गया है।

सिंथेटिक ऑयल टेक्नोलॉजी

यदि आप लंबे समय तक अपने ट्रक को अच्छी कंडीशन में रखना चाहते हैं तो आपको सिंथेटिक टेक्नोलॉजी वाले इंजन ऑयल का इस्तेमाल करना चाहिए। इससे आपको काफी समय तक इंजन ऑयल बदलवाने की जरूरत नहीं पड़ती है और ट्रक खराब होने की संभावनाएं भी नहीं रहती है।

सिंथेटिक टेक्नोलॉजी वाले इंजन ऑयल बीएस6 ट्रकों के अनुकूल है जो इनकी परफॉर्मेंस को भी बढ़ाते हैं। Mobil Delvac MX ESP 15W-40 API CK-4 मार्केट में उपलब्ध सबसे अच्छे बीएस6 इंजन ऑयल में से एक है। यह ऑयल इंजन पार्ट्स को 48 प्रतिशत तक ज्यादा सुरक्षित रखता है और बाजार में उपलब्ध अन्य प्रोडक्ट की तुलना में इसे आपको 1,20,000 किलोमीटर तक बदलवाने की जरूरत नहीं पड़ती है।

इस सिंथेटिक टेक्नोलॉजी वाले इंजल ऑयल की सबसे खास बात ये है कि इसे बीएस6 के साथ साथ बीएस4 ट्रकों में भी इस्तेमाल किया जा सकता है, जिससे आप अपने सभी ट्रकों में एक ही इंजन ऑयल को काम में ले सकते हैं।

नतीजतन ट्रक के मालिकों के काफी सारे अतिरिक्त खर्चे बच जाते हैं। इस प्रकार छोटे, मीडियम और बड़े हर तरह के ट्रकों में सिंथेटिक टेक्नोलॉजी वाले इंजन ऑयल के इस्तेमाल से मेंटेनेंस के खर्चों को कम किया जा सकता है और अपनी कमाई बढ़ाई जा सकती है।

ध्यान रहे:

  • यह टेस्ट इंडस्ट्री के लिए तय किए गए मापदंड एपीआई सिंथेटिक ल्यू​ब्रिकेंट्स में सिक्वेंस आईवीए पर आधारित है।

  • यह फील्ड ट्रायल भारत में बीएस 4 ट्रक पर किया गया है। आपके व्हीकल और उसके चलाने के तौर तरीकों के आधार पर ​परिणाम भिन्न हो सकते हैं। ऐसे में लुब्रिकेशन के लिए कृपया अपने व्हीकल सर्विस मैनुअल और सर्विस इंटरवल को देखें। यहां सर्विस इंटरवल का सुझाव केवल भारतीय बाजार को देखकर ही दिया गया है।

लॉजिस्टिक बिजनेस में ज्यादा मुनाफा कमाने के लिए किन बातों का ध्यान रखना चाहिए, ये हम जानेंगे आगेः  Click here to know more

  • टाटा 407 गोल्ड एसएफसी
    टाटा 407 गोल्ड एसएफसी
    ₹10.75 - ₹13.26 लाख*
    • पावर 100 एचपी
    • जीवीडब्ल्यू 4650
    • माइलेज 10
    • इंजन 2956
    • ईंधन टैंक 60
    • पेलोड 2267
    डीलर से बात करें

नए कमर्शियल व्हीकल

*एक्स-शोरूम कीमत

पॉपुलर मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ऑटो रिक्शा
  • ई रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत
×
आपका शहर कौन सा है?