• शहर चुनें

डेमलर बेहतर प्लाटूनिंग कैपेसिटीज के लिए वाई-फाई एनेबल्ड ट्रक्स लाएगी

Published On Mar 27, 2016By तुषार विजय

ट्रकिंग क्षेत्र में डेमलर एडवांस्ड और नई टेक्नोलॉजीज के लिए एक अग्रणी कंपनी के तौर पर जानी जाती है। इस कंपनी का एमिशन फ्री ट्रांसपोर्ट में एक प्रमुख नाम है तथा पिछले साल इसने जर्मनी की सड़कों पर सेल्फ ड्राइविंग ट्रक उतार कर इतिहास रच दिया था। अब यह कंपनी ट्रक की तमाम सुविधाओं में इजाफा करने के लिए नए कनेक्टिविटी बदलाव ला रही है।

प्लाटूनिंग ट्रकिंग ड्राइविंग में एक टेक्निक है, तथा यह उस समय काम आती है जब ट्रक्स का ग्रुप ऐसे हालातों में होता है जब वो ज्यादा माइलेज देने समेत आसानी से चल सके। इस इनोवेटिव मैकेनिज्म की ट्रक्स के लिए यह जरूरत है कि रोड़ पर उनको जैसे सामान्य तौर पर देखा जाता है उसी तरह एक दूसरे के नजदीक रहना चाहिए। डेमलर सभी ट्रक प्लाटून्स में में वाई-फाई की सुविधा देने पर काम कर रही है, इस की वजह से सेफ्टी में इजाफा होने समेत ड्राइवर्स को ट्रक के फंक्शंस को समझ कर काम लेने में ज्यादा आसानी होगी।

डेमलर ए जी के बोर्ड ऑफ मेंबर तथा डेमलर ट्रक्स एंड बसेज डिविजन को मेनेज करने वाले डॉक्टर श्री वूल्फगेंग बेर्नहार्ड इस टॉपिक पर और ज्यादा प्रकाश डालते हुए कहा कि “हम ट्रक को इंटरनेट से कनेक्ट कर रहे हैं इस के साथ ही इसे लॉजिस्टिक नेटवर्क का मोबाइल डाटा सेंटर भी बना रहे हैं।” उन्होंने कहा कि “इस शामिल सभी कनेक्ट होने वाली सामग्री में ड्राइवर्स, शेड्यूलर्स, फ्लीट ऑपरेटर्स, वर्कशॉप्स, मॅन्युफॅक्चरर्स तथा इंश्योरेंस कंपनियां अथवा अथॉरिटीज आदि शामिल हैं। इस की वजह से उनको रियल टाइम की सूचना मिलती रहेगी जिन्हें वो पहले प्राप्त नहीं कर सकते थे। इनमें ट्रैक्टर यूनिट तथा ट्रैलर की कंडीशन, ट्रैफिक और मौसम की स्थितियों, मेट्रो वे स्टेशंस पर पार्किंग की उपलब्धता की संभावना, आराम करने वाले इलाकों समेत कई चीजें आदि।”

कंपनी हाल ही में इस तकनीकी के सफल रहने के लिए एक परीक्षण भी आयोजित किया था। इसने जर्मन के हाईवेज पर एक प्लाटून फॉर्मेशन के तौर पर वाई-फाई वाले तीन ऑटोनोमस मर्सिडीज बेंज ट्रक्स उतारे थे। इस के बाद कंपनी ने प्लाटूनिंग केपेसिटीज़ को बढ़ाने के लिए अपने हाईवेज पायलट कनेक्ट सिस्टम को फिर से बढ़ाने के लिए उसे यूटिलाइज किया और इस की वजह से माइलेज में लगभग 7 फीसदी का इजाफा हुआ।

श्री बेर्नहार्ड ने कहा कि “हमारे ट्रक्स उनके एन्वायरमेंट से पूरी तरह से कनेक्ट हैं तथा अब इंटनेट का हिस्सा बनते हुए लगातार सचूनाएं भेजने और प्राप्त करने की सक्षता वाले हैं। वो सभी व्यक्ति जो लॉजिस्टिकल प्रोसेसर में शामिल है वो सभी अपनी जरूरतों के अनुसार इन रीयल टाइम डेटा को प्राप्त कर सकते हैं। आने वाले समय में इस की वजह से लॉडिंग तथा अपलोडिंग के वेटिंग टाइम में कमी आएगी, इसके अलावा पेपर वर्क और ट्रैफिक जाम से भी छुटकारा पाने में मदद मिलेगी। ऑटोमेटेड ट्रांसफर अथवा वाई-फाई के माध्यम से फ्लैश अपडेट्स प्राप्त करने की वजह से ट्रक्स के लिए उनकी सर्विस प्वॉइंट में लगने वाला समय भी सीधेतौर पर कम होगा। इस तरह से हम गूड्स ट्रांसपोर्ट के परफॉर्मेंस को पुर तौर पर इंप्रूव कर रहे हैं। यहाँ बढ़ते हुए गूड्स ट्रांसपोर्ट के वॉल्यूम का सामना हम समझदारी से कर रहे हैं। और हम इस का इस्तेमाल अच्छे ढंग से करेंगे।

लेटेस्ट मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत

पॉपुलर मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत
×
आपका शहर कौन सा है?