• शहर चुनें

कमर्शियल व्हीकल की सेल्स जून 2016 में भी अच्छी रही

Published On Jul 04, 2016By प्रशांत तलरेजा

इंडियन कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री की बढ़त के साथ अच्छे स्तर पहुँचती दिखाई दे रही है और इसी के साथ इन दिनों मार्केट में इस सेगमेंट के उज्ज्वल भविष्य के कामना की जा रही। जून 2016 के महीने में हुई बिक्री की हाल ही में जारी हुई रिपोर्ट भी इसका समर्थन करती दिख रही है, क्योंकि सभी प्रमुख कंपनियों ने जबरदस्त ग्रोथ दर्ज की है। सभी प्रमुख कंपनियां जिन में अशोक लीलैंड, महिन्द्रा एंड महिन्द्रा, टाटा मोटर्स, वीईसीवी तथा अन्य शामिल हैं, सभी ने मिलकर शानदार सेल्स ग्रोथ दर्ज की है।

टाटा मोटर्स से शुरूआत करें तो, भारत के इस सबसे बड़े कमर्शियल व्हीकल मेकर ने स्मॉल कमर्शियल व्हीकल (एस सी वी) सेगमेंट में 14 फीसदी की जबरदस्त ग्रोथ दर्ज की है। ऐसा तब हुआ है जब महिन्द्रा ने टाटा मोटर्स को एससीवी सेगमेंट में पीछे छोड़ते हुए टॉप पोजीशन हासिल की। हालांकि, एम एंड एचसीवी की सेल्स साल 2015 की तुलना में 11 फीसदी कम रही। जून 2016 में टाटा मोटर्स की कुल सेल्स दोनों एससीवी तथा एम एंड एचसीवी को मिलाकर 2 फीसदी बढ़ी।

आईशर तथा वोल्वो के ज्वॉइंट वेंचर वोल्वो आईशर कमर्शियल व्हीकल्स (वीईसीवी) ने 20.33 फीसदी के साथ दो अंकों की जबरदस्त ग्रोथ दर्ज की है। इस कंपनी ने जून 2015 में बिकी 3537 यूनिट्स की तुलना में जून 2016 में 4256 यूनिट्स बेची। नहीं अशोक लीलैंड ने 11108 यूनिट्स की बिक्री के साथ जून 2016 में 11 फीसदी शानदार ग्रोथ दर्ज की। कंपनी 8685 यूनिट्स एमएंडएचसीवी की बेची जिसमें 8 फीसदी का इजाफा हुआ तथा जून 2015 में एससीवी की बिकी 2413 यूनिट्स की तुलना में 2423 यूनिट्स बेची जो कि अच्छी रही।

इनके अलावा दूसरे प्रमुख प्लेयर महिन्द्रा एंड महिन्द्रा ने भी एम एंड एचसीवी सेगमेंट में 28 फीसदी की ग्रोथ दर्ज की। जून 2015 में बिकी 404 यूनिट्स की तुलना में जून 2016 में बिकी यूनिट्स की संख्या 517 रही। महिन्द्रा के एससीवी सेगमेंट की बात की जाए तो यह मार्केट में टॉप पर है। इस कंपनी ने 3.5 टन से कम के ग्रोस व्हीकल वेट वाले सेगमेंट के 11955 वाहन बेचे जबकि जून 2015 में यह बिक्री 11507 यूनिट्स की रही। इस में 4 फीसदी की ग्रोथ हुई। महिन्द्रा के 3.5 टन की क्षमता वाले व्हीकल्स की बिक्री में जून 2015 में हुई 826 यूनिट्स की तुलना में 29 फीसदी की ग्रोथ के साथ 1068 यूनिट्स की बिक्री हुई।

इस के अलावा अच्छे मानसून की संभावना से भी कमर्शियल व्हीकल्स की अच्छी सेल्स की उम्मीद है। हालांकि डीजल की बढ़ती कीमतें इस मार्केट की ग्रोथ पर कुछ असर डाल सकती है। कुल मिलाकर जून 2016 में कमर्शियल व्हीकल सेगमेंट की बिक्री 78292 यूनिट्स रही, जो जून 2015 की तुलना में 10 फीसदी अधिक हैं। यदि सेगमेंट के अनुसार बात की जाए तो एससीवी सेगमेंट में 43191 यूनिट्स की बिक्री के साथ ही 11 फीसदी की वृद्धि हुई। जबकि, एमएंडएचसीवी सेगमेंट 35101 व्हीकल्स की बिक्री के साथ ही 8 फीसदी की वृद्धि हुई। संभावना है कि यदि बिक्री ऐसी ही रही तो फायनेंशियल ईयर 2016-17 में कमर्शियल व्हीकल इंडस्ट्री में 10 से 12 फीसदी का इजाफा होगा, जिसे हासिल करना बहुत ही आसान लग रहा है।

लेटेस्ट मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत

पॉपुलर मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत
×
आपका शहर कौन सा है?