• शहर चुनें

अशोक लेलैंड ग्लोबल टॉप 10 एम एंड एचसीवी प्लेयर्स लिस्ट में प्रवेश करने की योजना बना रहा है

Published On Apr 26, 2017By ट्रक्सदेखो संपादकीय टीम

अशोक लेलैंड ने हाल ही में एम एंड एचसीवी सेगमेंट की बिक्री के साथ जोर दिया, अब और अधिक आक्रामक जाने की योजना बना रही है। कंपनी आने वाले दो-तीन वर्षों में मध्यम और भारी वाणिज्यिक वाहन निर्माताओं की शीर्ष 10 सूची में प्रवेश करने की सोच रही है। इस उपलब्धि को प्राप्त करने के लिए, फर्म नए उत्पादों के अनुसंधान और विकास में नए बाजारों की खोज करके हर साल 500-600 करोड़ रुपये का निवेश करेगा।

कंपनी ने पहले से ही योजना की रूपरेखा दी है जो घरेलू और निर्यात दोनों बाजारों के लिए होगी। अशोक लीलैंड के प्रबंध निदेशक विनोद के दस्शी ने कहा कि घरेलू बाजार में बिकने वाले हर दो वाहनों के लिए कंपनी विदेशी बाजार में एक वाहन को बेचना चाहती है। कंपनी की मौजूदा बिक्री का 12-14 फीसदी हिस्सा निर्यात से आता है। वित्त वर्ष 17 में यह आंकड़ा 85,000 यूनिट था।

इसी के साथ, राष्ट्रपति (ग्लोबल ट्रकों) अशोक लेलैंड के अनुज काथुरिया ने कहा कि उन्हें छह प्रमुख बाजारों में काफी संभावनाएं हैं जिनमें अफ्रीका, आसियान, मध्य पूर्व और सार्क देशों के क्षेत्र शामिल हैं। फर्म अफ्रीकी देशों में नए विनिर्माण संयंत्र स्थापित करने की तैयारी कर रहा है जो घरेलू बाजार में भी पूरा करेगा। वर्तमान में, मध्य-पूर्व में, कंपनी रास अल खैमाह में एक सुविधा चलाती है और बांग्लादेश में एक नया स्थापित करने की भी योजना है। भारत में, आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में करीब 80-100 करोड़ रुपये की लागत से विनिर्माण बसों के लिए नया संयंत्र होगा जो हर साल लगभग 2,200 बसों का उत्पादन करेगा।

प्रत्येक नई सुविधा का खर्च लगभग 10-15 मिलियन अमरीकी डॉलर (INR 64-96 करोड़) होगा जो कि प्रति वर्ष 500-600 करोड़ रूपये के कुल पूंजी व्यय का एक हिस्सा है। नई सुविधाएं स्थापित करने के अलावा, कंपनी मॉड्यूलर वाहनों के क्राफ्टिंग के लिए भी नए मंच का विकास कर रही है।

कथुरिया ने यह भी कहा कि अशोक लेलैंड और नो नंबर के बीच केवल 17-18 फीसदी अंतर है। वॉल्यूम के मामले में 10 वैश्विक खिलाड़ी और कंपनी को यह अंतर 2-3 साल में घरेलू और निर्यात दोनों में वृद्धि की उम्मीद है। विनोद दासारी के मुताबिक कंपनी आने वाले वर्षों में रक्षा कारोबार 500 करोड़ से बढ़कर 5000 करोड़ रुपये होने की उम्मीद कर रही है क्योंकि उनका दावा है कि अब तक 1 फीसदी की तुलना में 20-25 फीसदी निविदाएं देने की क्षमता है।

लेकिन शॉर्ट-प्ले प्लानिंग में, यह सिर्फ रक्षा कारोबार में तीन गुना वृद्धि की उम्मीद कर रहा है। अशोक लेलैंड ने सुरक्षा और बुलेट प्रूफ वाहनों को विकसित करने के लिए सुरक्षा एजेंसियों से आदेश प्राप्त किए हैं। घरेलू एलसीवी श्रेणी में भी कंपनी अपने बाजार को लगभग 30 प्रतिशत तक दोगुना करने की तैयारी कर रही है। इस कंपनी के लिए अगले दो सालों में हर तीन महीने में एक नया उत्पाद शुरू किया जाएगा, जिसके तहत 400 करोड़ रुपये के अपने एलसीवी निवेश का हिस्सा होगा।

लेटेस्ट मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत

पॉपुलर मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत
×
आपका शहर कौन सा है?