• शहर चुनें

अशोक लीलैंड ने ज्वॉइंट वेंचर पार्टनर निसान को कोर्ट में घसीटा

Published On Feb 12, 2016By प्रशांत तलरेजा

हिंदूजा ग्रुप की फ्लैगशिप कंपनी अशोक लीलैंड ने अपने जापानी ज्वॉइंट वेंचर पार्टनर निसान को कांचीपुरम के डिस्ट्रक्ट कोर्ट में खींचा है। कंपनी चाहती है कि निसान उसकी चेन्नई स्थित ओरंगदम फैक्ट्री में इसके ऑटोमोटिव मॅन्युफॅक्चरिंग इक्यूमेंट्स को प्रयोग करना बंद कर दे।

निसान के प्रवक्ता ने कंफर्म किया है कि मुकदमा दायर किया गया है। उन्होंने कहा कि, “हमें अशोक लीलैंड से एक नोटिस मिला है और हम इस बारे में अभी विचार विमर्श कर रहे हैं।” हालांकि, इस बारे में बताने के लिए अशोक लीलैंड के ऑफिशियल्स उपलब्ध नहीं थे।

अशोक लीलैंड और निसान का ज्वॉइंट वेंचर चेन्नई स्थित रेनो निसान ऑटोमोटिव इंडिया प्राइवेट लिमिटेड में अपने ज्वॉइंट वेंचर प्रोडक्ट ‘दोस्त’ पिक अप के लिए इंजन का उत्पादन करता हैं। इस ज्वॉइंट वेंचर के तहत कंपनी अशोक लीलैंड स्टाइल तथा निसान ‘इवालिया’ नामक एमपीवी जारी कर चुके हैं, और ये दोनों ही इन प्रॉडक्ट्स का मार्केट बढ़ाने में असफल रहे। जब कि अशोक लीलैंड की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक दोस्त की अब तक 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स बिक चुकी है।

यह ज्वॉइंट वेंचर 3 अलग अलग कंपनियों के रूप में चलाया जा रहा है। इनमें व्हीकल मॅन्युफक्चरिंग, टेक्नोलॉजी डेवलपमेंट तथा इंजन मॅन्युफॅक्चरिंग शामिल है। इस ज्वॉइंट वेंचर में अशोक लीलैंड का 51 फीसदी हिस्सा है, और निसान की 49 फीसदी हिस्सेदारी है।

यह ज्वॉइंट वेंचर पिछले फायनेंशिल ईयर में कुल मिलाकर 791 करोड़ रूपए का घाटा उठा चुका है। इस घाटे की वजह से अशोक लीलैंड को ज्वॉइंट वेंचर से 214 करोड़ रूपए डेमेज के रूप में निकालने होना पड़ा। यह भारतीय फर्म 157 करोड़ रूपए पिछले साल सितंबर की आखिरी तिमाही में जॉन डेरे के साथ ज्वॉइंट वेंचर से भी दूसरे नुकसान के रूप में निकाल चुकी है।

लेटेस्ट मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत

पॉपुलर मॉडल्स

  • ट्रक्स्
  • पिकअप ट्रक्स्
  • मिनी-ट्रक्स्
  • टिप्पर्स
  • ट्रेलर्स
  • 3 व्हीलर
  • ट्रांजिट मिक्सचर
  • ऑटो रिक्शा
*एक्स-शोरूम कीमत
×
आपका शहर कौन सा है?